विभिन्न कार्यों हेतु निर्धारित समय-सीमाएँ

कृपया ध्यान दें : नीचे दी हुई समय-सीमाओं में दिन का अर्थ है - 'कार्य-दिवस' (जब तक कि अन्यथा उल्लेख न किया जाए) । दिनों की गिनती उस दिन के अगले दिन से शुरू होगी, जिस दिन एंटिटी सेबी के संबद्ध कार्यालय में पूरी जानकारी / पूरे दस्तावेज प्रस्तुत कर दे । जो मामले बाहरी एजेंसियों [जैसे स्टॉक एक्सचेंजों, निक्षेपागारों (डिपॉज़िटरीज़), भारतीय रिज़र्व बैंक आदि] को भिजवाने जरूरी हों, उन मामलों में ऐसी बाहरी एजेंसियों द्वारा लिया जाने वाले समय नीचे दी हुई समय-सीमाओं में शामिल नहीं है ।

निगम वित्त (कारपोरेशन फाइनेंस) विभाग

- निगम पुनर्संरचना प्रभाग

कार्य समय-सीमाएँ

विनियम 3(4) के तहत प्रस्तुत की गई रिपोर्ट का निपटारा

20 दिन

विनियम 4(2) के तहत किए गए आवेदन का निपटारा

60 दिन
कथित उल्लंघनों से संबंधित शिकायतों की जाँच-पड़ताल 20 दिन
प्रस्ताव दस्तावेजों (ऑफर डॉक्यूमेंट्स) के संबंध में अभिमत (टिप्पणियाँ) भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) के पास दाखिल किए जाने की तारीख से 21 दिन

- निर्गम एवं सूचीबद्धता प्रभाग

कार्य समय-सीमाएँ

सूचीबद्धता (लिस्टिंग) संबंधी मामले [अधिमानी प्रस्ताव (प्रेफरेंशियल ऑफर), नियम 19(2)(ख) से छूट आदि]

उस पत्र की तारीख से 21 दिन, जिसके माध्यम से माँगे गए स्पष्टीकरणों के संतोषजनक उत्तर दिए गए
प्रस्ताव दस्तावेजों (ऑफर डॉक्यूमेंट्स) के संबंध में अभिमत (टिप्पणियाँ) मर्चेंट बैंककार (बैंककारों) से, ऐसा प्रारूप प्रस्ताव दस्तावेज (ड्राफ्ट ऑफर डॉक्यूमेंट) प्राप्त होने की तारीख से 30 दिन या भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) द्वारा माँगे गए अतिरिक्त स्पष्टीकरणों
निवेश प्रबंधन विभाग

- सामूहिक निवेश स्कीम प्रभाग

कार्य समय-सीमाएँ
नया रजिस्ट्रीकरण 21 दिन
प्रस्ताव दस्तावेजों (ऑफर डॉक्यूमेंट्स) के संबंध में अभिमत (टिप्पणियाँ) 21 दिन
रजिस्ट्रीकरण का नवीकरण / रद्दकरण 21 दिन

- विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक एवं अभिरक्षक प्रभाग

कार्य समय-सीमाएँ
नया रजिस्ट्रीकरण – उप-लेखे (सब-अकाउंट्स) 3 दिन
रजिस्ट्रीकरण का नवीकरण – एफआईआई 5 दिन
एफआईपीबी प्रस्ताव 3-5 कार्य-दिवस
नया रजिस्ट्रीकरण – एफआईआई 7 दिन

सरकार से प्राप्त पत्र आदि

4 कार्य-दिवस
रजिस्ट्रीकरण का नवीकरण – उप-लेखे (सब-अकाउंट्स) 3 दिन

- निधि प्रभाग 1 [पोर्टफोलियो प्रबंधक, जोखिम पूँजी, कंपनी (कारपोरेट) बॉण्ड, आदि] 2 [पारस्परिक निधियाँ (म्यूचुअल फंड) : नीति एवं निरीक्षण) और 3 [पारस्परिक निधियाँ (म्यूचुअल फंड) : पारस्परिक निधियों का रजिस्ट्रीकरण, उनका कामकाज और निवेशकों की शिकायतें]

कार्य समय-सीमाएँ
विदेशी प्रतिभूतियों (सिक्यूरिटीज़) / एडीआर / जीडीआर हेतु आवेदन 7 दिन
पारस्परिक निधियों (म्यूचुअल फंड्स) के न्यासियों (ट्रस्टी) के संबंध में मंजूरी 7 दिन
नियंत्रक हित (कंट्रोलिंग इंटरेस्ट) में परिवर्तन / सीमित अवधि वाली स्कीमों से असीमित अवधि वाली स्कीमों में परिवर्तन 21 दिन

नया रजिस्ट्रीकरण

21 दिन
प्रस्ताव दस्तावेजों (ऑफर डॉक्यूमेंट्स) के संबंध में अभिमत (टिप्पणियाँ)
21 दिन
बाजार मध्यवर्ती विनियमन एवं पर्यवेक्षण विभाग
कार्य समय-सीमाएँ
क. मध्यवर्तियों (इंटरमीडियरीज़) का नया रजिस्ट्रीकरण

 स्टॉक दलाल
 उप-दलाल
 निक्षेपागार सहभागी (डिपॉज़िटरी पार्टिसिपेंट्स)
 मर्चेंट बैंककार
 आरटीआई / एसटीए
 साख निर्धारण (क्रेडिट रेटिंग) एजेंसियाँ
 निर्गमन बैंककार (बैंकर्स टू एन इश्यू)
 डिबेंचर न्यासी
 स्टॉक उधार स्कीम के तहत अनुमोदित मध्यवर्ती (इंटरमीडियरीज़)
30 दिन
ख. रजिस्ट्रीकरण का रद्दकरण / अभ्यर्पण (सरंडर)

 स्टॉक दलाल
 उप-दलाल
 निक्षेपागार सहभागी (डिपॉज़िटरी पार्टिसिपेंट्स)
 मर्चेंट बैंककार
 आरटीआई / एसटीए
 साख निर्धारण (क्रेडिट रेटिंग) एजेंसियाँ
 निर्गमन बैंककार (बैंकर्स टू एन इश्यू)
 डिबेंचर न्यासी
 स्टॉक उधार स्कीम के तहत अनुमोदित मध्यवर्ती (इंटरमीडियरीज़)
30 दिन
ग. मध्यवर्ती (इंटरमीडियरी) के नियंत्रण में परिवर्तन के लिए पूर्व अनुमोदन

 स्टॉक दलाल
 उप-दलाल
 निक्षेपागार सहभागी (डिपॉज़िटरी पार्टिसिपेंट्स)
 मर्चेंट बैंककार
 आरटीआई / एसटीए
 साख निर्धारण (क्रेडिट रेटिंग) एजेंसियाँ
 निर्गमन बैंककार (बैंकर्स टू एन इश्यू)
 डिबेंचर न्यासी
 स्टॉक उधार स्कीम के तहत अनुमोदित मध्यवर्ती (इंटरमीडियरीज़)
30 दिन

दूसरे देशों में पूर्ण स्वामित्व वाली समनुषंगियाँ (सब्सिडियरी) खोलने के लिए या संयुक्त उद्यम (ज्वाइंट वेंचर) खोलने के लिए सेबी के पास आवेदन

30 दिन

निवेशकों की शिकायतें

सेबी को मध्यवर्तियों (इंटरमीडियरीज़) के खिलाफ निवेशकों से जो शिकायतें प्राप्त होती हैं, उन्हें इलेक्ट्रॉनिक रूप से स्कोर्स (https://scores.gov.in/Admin) के माध्यम से संबंधित एंटिटी / एसआरओ के पास भिजवा दिया जाएगा । यह जिम्मेदारी मध्यवर्ती की होगी कि वह शिकायत प्राप्त होने की तारीख से एक महीने के भीतर उसका निवारण करने के लिए पर्याप्त कदम उठाए और निवेशक / एसआरओ को भी उस संबंध में की गई कार्रवाई के बारे में सूचित करते रहे । ऐसा न करने पर मध्यवर्ती के खिलाफ दांडिक (शास्तिक) कार्रवाई की जाएगी ।


बाजार विनियमन विभाग

- स्व-विनियामक संगठन प्रशासन प्रभाग

कार्य समय-सीमाएँ
निक्षेपागार (डिपॉज़िटरी) / निक्षेपागार सहभागियों (डिपॉज़िटरी पार्टिसिपेंट्स) / अभिरक्षकों (कस्टोडियन्स) का नया रजिस्ट्रीकरण 30 दिन

Renewal of registration/ cancellation thro surrender of depository/depository participants/custodians

30 दिन
निवेशक सहायता एवं शिक्षण कार्यालय
कार्य समय-सीमाएँ
नया रजिस्ट्रीकरण निवेशक संघ – 21 दिन
स्टॉक एक्सचेंजों से 1% जमा (डिपॉज़िट) छुड़वाने संबंधी आवेदनों पर कार्यवाही 15 दिन

निवेशक संघों को भुगतान के संबंध में कार्यवाही

21 दिन
रजिस्ट्रीकरण का नवीकरण / रद्दकरण निवेशक संघ - 21 दिन
सभी प्रभाग
कार्य समय-सीमाएँ
निवेशकों की शिकायतें निवेशकों की जिन शिकायतों का निवारण किया जा सकता है तथा जो भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) के दायरे में आती हैं, वे शिकायतें भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड द्वारा 7 दिनों के भीतर संबंधित एंटिटी को भिजवा दी जाती हैं और उनका लगातार जायज़ा लिया जाता है । जो मामले भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड के दायरे में आते हैं, केवल उन्हीं से संबंधित शिकायतें भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड के संबद्ध कार्यालयों (जिनका उल्लेख संलग्नक में है) में भिजवाई जाएँ ।